चीफ सेलेक्टर सुनील जोशी के नाम है कोई भारतीय नहीं तोड़ पाया इनका सुनिल जोशी का रिकॉर्ड

चीफ सेलेक्टर सुनील जोशी के नाम है कोई भारतीय नहीं तोड़ पाया इनका सुनिल जोशी का रिकॉर्ड

- in Sports
0
Comments Off on चीफ सेलेक्टर सुनील जोशी के नाम है कोई भारतीय नहीं तोड़ पाया इनका सुनिल जोशी का रिकॉर्ड

पूर्व स्पिनर सुनील जोशी को बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने राष्ट्रीय चयन समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया है.

पूर्व स्पिनर सुनील जोशी को बीसीसीआई की क्रिकेट सलाहकार समिति (सीएसी) ने राष्ट्रीय चयन समिति का अध्यक्ष नियुक्त किया है. जबकि पांच सदस्यीय इस समिति में पूर्व तेज गेंदबाज हरविंदर सिंह को भी शामिल किया. सीएसी में पूर्व भारतीय क्रिकेटर मदन लाल, आरपी सिंह और सुलक्षणा नाइक शामिल हैं, जिन्होंने दोनों चयनकर्ताओं को चुना. जिसमें जोशी ने दक्षिण क्षेत्र के प्रतिनिधि के रूप में एमएसके प्रसाद की जगह ली.

मदन लाल ने कहा कि हमने इस काम के लिए सर्वश्रेष्ठ उम्मीदवार का चयन किया है. उन्होंने कहा, ‘सुनील जोशी का चयन इसलिए किया क्योंकि उनके विचार स्पष्ट थे.’ जोशी के बारे में उन्होंने कहा, ‘हमें उनका स्पष्ट रवैया अच्छा लगा. वह अनुभवी भी हैं (बांग्लादेश टीम के सपोर्ट स्टाफ में रहे हैं).’

सुनील जोशी ने 1996 से 2001 के बीच भारतीय टीम के लिए 15 टेस्ट में 35.85 की औसत से 41, जबकि 69 एकदिवसीय में 36.36 की औसत से 69 विकेट लिए हैं. कर्नाटक के इस दिग्गज ने प्रथम श्रेणी के 160 मैचों में 25.12 की औसत से 615 विकेट चटकाए हैं.

सुनील जोशी का नाम सीमित ओवरों के क्रिकेट के बेहतरीन स्पिनरों में भले ही शुमार न होता हो, लेकिन उनके नाम अभी भी एक बेहतरीन रिकॉर्ड है. दरअसल, वह भारत की ओर से वनडे इंटरनेशनल में सबसे किफायती पांच विकेट लेने का रिकॉर्ड अपने नाम रखते हैं, जो दो दशक बाद भी कायम है.

26 सितंबर 1999 को नैरोबी में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चतुष्कोणीय सीरीज (एलजी कप) के दूसरे मुकाबले में सुनील जोशी ने घातक गेंदबाजी कर सुर्खियां बटोरी थीं. इस टूर्नामेंट की अन्य दो टीमें केन्या और जिम्बाब्वे थीं.

उस वक्त भारतीय टीम बिना अनिल कुंबले के उतरी थी. दूसरी तरफ मोहम्मद अजहरुद्दीन की गैर मौजूदगी में अजय जडेजा ने टीम का नेतृत्व किया था. दक्षिण अफ्रीकी कप्तान हैंसी क्रोनिए ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी चुनी. दुर्भाग्य से उनकी टीम के लिए भारतीय स्पिनर सुनील जोशी ‘काल’ बन गए.

You may also like

पुलवामा के रहने वाले एक पिता-बेटी को गिरफ्तार किया है? सुसाइड बॉम्बर को पनाह देने का आरोप

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने पुलवामा के रहने